आइए जानते है भारत के ग्रामीण इलाकों से जुड़ी जरूरी बातें

दोस्तों आज हम बात करने जा रहे हैं भारतीय गांव के बारे में दोस्तों भारतीय गांव के बारे में बताने के लिए मेरे पास बहुत कुछ है। हमारे भारत देश की खूबसूरती हमारे भारत के गांव में ही तो है दोस्तों हमारे भारत देश में बहुत सारे गांव हैं भिन्न-भिन्न प्रकार के कोई गांव छोटे हैं तो कोई गांव बड़े हैं किसी गांव में गरीबी ज्यादा है तो कोई गांव डेवलपमेंट के क्षेत्र में आगे बढ़ने की अपनी पूरी कोशिश कर रहे हैं जो की बहुत ही अच्छी बात है। दोस्तों किसी और देश में आपको कोई गांव देखने को नहीं मिलेगा लेकिन सिर्फ भारत ही ऐसा देश है जिसमें आपको इतने गांव देखने का मर जाएंगे कि आपकी डिगना भी मुश्किल है जीना मुश्किल किया एक व्यक्ति के लिए पूरे भारत के गांव गिरना नामुमकिन है। दोस्तों हमारे भारत के गांवों में किसान खेती करते हैं और अनाज उगाते हैं जोकि हम लोग खाते हैं और दोस्तों हम भारतीयों को अपने देश की मिट्टी से बहुत प्यार होता है बहुत प्यार होता है। इसीलिए दोस्तों हमारे भारत देश के गांव की हरियाली और सुंदरता इतनी खूबसूरत होती है उसको देखने के लिए सभी लोग जो कि शहरों में रहते हैं।

दोस्तों जो लोग गांव में नहीं रहते हैं बल्कि शहरों में रहते हैं वो लोग गांव की सुंदरता देखने से वंचित रह जाते हैं लेकिन दोस्तों इसका ही एक दूसरा पलड़ा भी है जिसमें कि यह बताया गया है कि हमारे भारत के गांव की स्थिति कुछ ज्यादा अच्छी नहीं है। वहां पर किसानों के पास उगाने के लिए खा तक के पैसे भी नहीं हो पाते क्योंकि गांवों में बहुत ज्यादा गरीब ही देखने को मिलती है। आपको हरियाली तो देखने कोमिल जाएगी लेकिन उसी के साथ आपको गरीबी भी सबसे ज्यादा भारत देश में देखने को मिलेगी भारत देश के गांव के बच्चे अच्छे से स्कूल भी नहीं पढ़ पाते जो कि बहुत ही शर्मनाक बात है। गांव के लोग अपनी पत्नियों को घुंघट में रहने के लिए बोलते हैं और गांव की औरतों को कुछ बाहर का भी नहीं करने देते हैं वो समझते हैं रोटी सब्जी बनाने के लिए बनाया गया है और दोस्तों यह बहुत गलत बात है।

भारत के गांव के लोगों को ऐसी सोच नहीं रखनी चाहिए क्योंकि ऐसी सोच रखने से देश की महिलाएं आगे नहीं बढ़ पाती और देश के लिए कुछ कर नहीं पाते जो कि बहुत बातें हम सब चाहते हैं कि देश की महिला आगे बढ़े और हमारे देश का नाम रोशन करें उनको पढ़ना लिखना होगा और शादी के बाद भी उनको इजाजत मिलनी चाहिए कि वह कल का काम कर सके और अपने देश के गांव में रहती हैं लेकिन गांव की महिलाएं भी किसी से कम नहीं है। छोरियां छोरों से कम नहीं है हम सभी ने दंगल फिल्म का एक फेमस डायलॉग सुना है म्हारी छोरियां छोरों से कम है के।

दोस्त गांव की सभी लोगों को समझना चाहिए और गांव की महिलाओं को बढ़ावा देना चाहिए जिससे वह बाहर निकल कर अपने गांव का नाम भी रोशन कर सकें और उनके गांव की ग्रोथ और भी अच्छे से हो दोस्तों गांव में बच्चों की पढ़ाई को लेकर भी ज्यादा चिंता नहीं करी जाती जो कि अच्छी बात नहीं है गांव के लोगों को समझना चाहिए कि अगर पढ़ेगा इंडिया तो बढ़ेगा। इंडिया दोस्तों इतने ज्यादा हमारे गांव के बच्चे पढ़ेंगे उतने ज्यादा हमारे गांव की तरक्की होगी और यह अच्छा होगा। दोस्तों शहरों के लोग गांव में जाने के लिए तरसते हैं और गांव के लोग सोचते हैं कि शहरों की जिंदगी ज्यादा अच्छी है पर मनुष्य यह नहीं समझ पाता कि वह जहां पर रह रहा है। वहां की जिंदगी ही सबसे अच्छी है वह जहां रहता है वह वही की जिंदगी को सबसे अच्छी बना सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *